There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, September 26, 2011


ख़्वाबों ने जादू किया क्या न जाने 
लगे हम हकीक़त से नज़रें चुराने 

घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment