Search This Blog

Saturday, September 17, 2011


बुत  हो गयी हो  तुम  तो हया  से 
बने कोई काफिर तुम्हारी बला से 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment