There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, October 15, 2011

करवा चौथ पर विशेष ...
दिनभर यूँ , चाँद का इंतज़ार न किया होता 
गर, मेरी आँखों से आईना देख लिया होता 
घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment