There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, October 9, 2011


ज़ालिम, कम से कम अब तो याद ना आ 
अब तो  हिचकियों  ने  भी  दम तोड़ दिया 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment