There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, October 29, 2011


मौन ---
-----------------
पथिक जी ने सम्पन्न काव्य *गोष्ठी
के उतार चढाव पर लिखा /
मसला कुछ असामान्य सा दिखा --
चित्र देख कर कुछ भी नहीं
कहना चाहता हूँ -----
बस ,
अन्ना की तरह
मौन ,,रहना चाहता हूँ ----
------------------
प्रकाश प्रलय कटनी ---
--------------------------------------
Post a Comment