There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, October 27, 2011

कुछ बेहतरीन किताबें

सापेक्ष प्रकाशन की पुस्तकें साहित्य के मूल्यों को स्थापित करती हैं और बाजार को तहजीब का सलीका सिखाती हैं
किताबें आदमी का सबसे बढ़िया दोस्त होती हैं। एक किताब की कुछ पंक्तियों में वह ताकत होती है कि वो आदमी के सोच को आमूलचूल बदल देती है। जो किताब से दूर है वह अभागा मनुष्य होकर भी ज्ञान की रोशनी से दूर अंधेरे में रहने को विवश है।
-सुभाष चंद्र बोस
Post a Comment