Search This Blog

Wednesday, November 30, 2011

नीरव और दोहे



श्रद्धेय पंडितजी आपके दोहे बहुत ही शिक्षायोग्य हैं, मुझे निम्न दोहा बहुत ही बेहतरीन लगा, बहुत-बहुत बधाई-



क्यूँ छोडें पहिचान को, रहे छाँव या धूप।
अपने रँग में रँग रहे, उस का रंग अनूप।२।





पालागन 

अमितजी आपको बहुत-बहुत बधाई नाद-अनाद की बेहतरीन परिभाषा के

 लिए.

ऐसी अभिव्यक्ति और प्रतिभा के लिए बधाई. आपके शब्दों में- 

नाद में अनाद के, शब्द में नि:शब्द के..
व्यक्क्त में अव्यक्त के, प्रारब्ध में आरब्ध के..
मूल में निर्मूल के..कर्म में अकर्म के..और 
हित में जनहित के..लोकतंत्र निर्दिष्ट है..


Post a Comment