Search This Blog

Saturday, November 12, 2011

सिर्फ सात फेरे


सिर्फ सात फेरे औरत को कितना बांध देते हैं
यहएक औरत ही जानती है
ताज़्ज़ुब तो यह है कि वह
इस बंधन को बंधन नहीं मानती है
और वह भी जो कभी
इन फेरों में चल रहा था कभी आगे
तो कभी साथ-साथ
फेरों के फेर को जाने कब
और कैसे भूल जाता है?
चुपचाप फिर जाता है
और वह तभी जान पाती है
जब वह ले चुका होता है
घोषित या अघोषित
सात फेरे किसी और औरत के साथ
--अरविन्द पथिक
9910416496
Post a Comment