There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, December 18, 2011

गजल के बेताज बादशाह नही रहे ---
------------------------------------------
क्या कहें ,क्या लिखे ..,
अदम जी ,अब हमारे 
बीच नहीं हैं ---
मगर उनका लेखन 
सदा जीवित रहेगा ---
दो काव्य संग्रह ---
1dhrti की सतह पर ////
२समय से मुठभेड़ 
------------------------
के साथ ही उनकी ये पंक्तिया 
-------------------------------
काजू भुने प्लेट में
विस्की गिलास मे'
उतरा है रामराज 
विधायक निवास में 
जनता के पास एकही 
चारा है बगावत 
यह बात कह रहा हूँ .
मैं होशो -हवास में------
----------------------
विनम्र श्रदांजली -------------
--------------------
प्रकाश प्रलय कटनी -----------
----------------------------------------------- 
Post a Comment