Search This Blog

Thursday, December 1, 2011

अपने आँसुओं  से  परिचय तो करा कर जाओ
ख़ुशी के हैं या गम के इतना तो बता कर जाओ


घनश्याम वशिष्ठ





Post a Comment