Search This Blog

Monday, December 19, 2011

जनता को लोकतंत्र का लबादा उढा दिया
कितनी चतुराई से कटे हाथों को छुपा दिया


घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment