There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, December 26, 2011

प्रकाश प्रलयजी

तंदुरुस्ती                समझ में आया आज
                                     आपकी तंदरुस्ती का
                                                  राज़
है वहाँ  ----
रिश्वतखोरी ..
है जहाँ -----
*************
प्रकाश प्रलय कटनी
Post a Comment