There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, January 7, 2012

ख्वाब टूटा होश में आया तुम्हें देखा तभी 
क्या जलाल ए हुस्न था के होश मेरे उड़ गए 
घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment