There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, February 24, 2012

अरविंद पथिक और रजनीकांत राजू

भाई अरविंद पथिकजी,
आपके मुक्तक बहुत अच्छे लगे। बधाई।
श्री रजनीकांत राजूजी,
आपने सम्मेलन के समाचारों को जितनी तत्परता से ब्लॉग पर दिया है उसके लिए मैं आपका आभारी हूं। और भविष्य में भी आपसे यही अपेक्षा रखता हूं।
मेरे प्रणाम..
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment