There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, February 7, 2012

आत्मिक एवं सूक्ष्म उपस्थिति इस महत आयोजन में अवश्य रहेगी

आदरणीय हंस जी के सुपत्र को परिणय बेला में अनेकानेक शुभाषीश देते हुये हंस जी के पिताश्री के शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना करता हूं।निजी व्यस्ततओं की वजह से स्थूल रूप से मैं भले ही इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पा रहा परंतु मेरी आत्मिक एवं सूक्ष्म उपस्थिति इस महत आयोजन में अवश्य रहेगी।हंस जी को अनेकानेक बधाइयां।
आत्मीय
अरविंद पथिक
Post a Comment