Search This Blog

Wednesday, February 15, 2012

दिल अभी तक जवान है प्यारे

दिल अभी तक जवान है प्यारे
किस मुसीबत में जान है प्यारे।

तू मेरे हाल का ख़याल न कर
इस में भी एक शान है प्यारे।

रात कम है, न छेड़ हिज्र की बात
ये बड़ी दास्तान है प्यारे।

तल्ख़ कर दी है ज़िन्दगी जिसने
कितनी मीठी ज़बान है प्यारे।

जाने क्या कह दिया था, रोज़े-अज़ल
आज तक इम्तिहान है प्यारे।

मैं तुझे बेवफा नहीं कहता
दुश्मनों का बयान है प्यारे।

सारी दुनिया को है ग़लतफ़हमी
मुझ पे तू मेहरबान है प्यारे।
हफीज जलंधरी
प्रस्तुति- मृगेन्द्र मक़बूल
Post a Comment