Search This Blog

Tuesday, March 13, 2012

यही रही गति नियति हमारे मरूथल जीवन की


ना ही मन ने हमारी मानी,ना हमने मन की
इच्छाओं पर नहीं लुटायीपूंजी जीवन की
मौज फकीरी आ जाये तो होम करें सब कुछ
यही रही गति नियति हमारे मरूथल जीवन की

Post a Comment