There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, July 29, 2012


शब्दिका 

-------------------
करोड़ों के 
कमीशन पर 
बनी सडकें 
पानी के एक 
झटके मै 
कहने लगी 
मचल -मचल कर ***********
प्यारे ,
मुझ पर चलना 
सम्हल -सम्हल कर ----------
********************
प्रकाश प्रलय कटनी 
*********************

Post a Comment