There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, July 29, 2012

नीरव जी 
नमन 
भूल -चूक 
लेना -देनी 
कभी कभी 
ऐसा  भी हो जाता है ,
आपके ब्लॉग पर चला गया 
हँस जी ,द्वारा मंजू ऋषि जी के स्वागत 
मै बड़े अच्छे स्वागत शब्द लिखे थे .
इतने दिनों बाद हम भी स्वागत कर  बेठे ;;;;;
*********************************
बात इतनी सी है 
******************
गालव ऋषि के रूप मै  आप को 
पाकर धन्य हो गया गुरुदेव ;;;;;;
*************************
जिस ट्रेन से हमारा आना तय है .
उसी ट्रेन से प्रख्यात गीतकारा  डा।प्रेमलतानीलम दमोह जी 
भी आ रहीं हैं ....
*****************************************
प्रकाश प्रलय कटनी 
************************************
Post a Comment