There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, August 5, 2012

शब्दिका ****
*************
सरकारी अस्पताल के बाहर
भारी भीड़ -भाड़  देख .,
हमने कहा --भैये ,,,,,
यहाँ  क्या  कोई 
पहलवान  लड़े हैं ,,
वो बोले ---------जी नहीं ,
यहाँ एक नेताजी 
भर्ती हुए हैं,
बेचारे 
कुर्सी  से गिर पड़े हैं ************
****************
प्रकाश प्रलय कटनी 
Post a Comment