There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, August 5, 2012

शब्दिका --
************
आश्वासन 
और भाषण सुन 
सबका दिलहै रोय *****
दो पाटों के बीच  में 
*साबुत *
बचा न कोय ----------
******************
प्रकाश  प्रलय .....कटनी 
*******************************
Post a Comment