There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, August 30, 2012

शब्दिका 
*******************
संसद 
न चलने की 
कार्यवाही से 
राज नेताओं का 
चरित्र *
लोकतंत्र में खो गया .....
दूध का दूध 
पानी का पानी हो गया ,,,,,, .................
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
प्रकाश प्रलय 
Post a Comment