There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, September 19, 2012

कुण्डली

            कुण्डली 

बंद भारत मित्र किया, जोड़ तोड़ अजमाय,
चित्त न कोई दीखता, भरम   रहे  फैलाय,
भरम रहे फैलाय, पीस  दी  जनता  भोली,
चौतरफा से मार , न  आँख सिंह  ने खोली,
चूल्हा नहिं  जलता वहाँ,  खायँ वे कलाकंद,
जनता  की  रोटी छीन, कैसा   भारत  बंद।  

                                                       
Post a Comment