Search This Blog

Tuesday, September 18, 2012

बहुत करारा व्यंग्य

श्री भगवानसिंह हंसजी 
कार्यक्रम की बधाई के लिए हार्दिक आभार। आपकी कविता बहुत करारा व्यंग्य करती है सत्ता पर और आज की राजनीति पर। अच्छी कविता के लिए आपको भी बहुत बधाई..
मेरे पालागन..
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment