There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, September 20, 2012

हार्दिक बधाइयां।


000000000000000000000000000000000000000000000000000000000
भारतबंद पर 
भाई प्रकाश प्रलय और भगवानसिंह हंसजी 
 आप दोनों की कविताएं बड़ी रोचक लगीं।
कविद्वय को हार्दिक बधाइयां।
-सुरेश नीरव
000000000000000000000000000000000000000000000000000000000
Post a Comment