Search This Blog

Saturday, September 15, 2012

नासमझ कवि

 
भगवान  सिंह हंस


भटकती कविता 
और 
टरकता  कवि 
जैसे 
संध्या को डूबता रवि 
ऐसा 
नासमझ कवि 
 

Post a Comment