There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, September 15, 2012

साँसों के सफ़र में,



ठहरा  ये  जीवन  साँसों    के   सफ़र  में,
मंसब  ये  जीवन  शुकून  के    शहर  में।

मिलती  हैं जहाँ  महज सहज फवतियाँ,
शवनम हि जिन्दगी जीने  के   पहर  में।

लगते   हैं   जहाँ    मेले  तस्बीर   बन,
मिटते   हैं  खुद  ही,  खुद  के सदर में।

उतरी    अंतस  पर, शहनाज़ कलियाँ,
रौस  के  महफूज़ की  अनस  बहर में।

समंदर  में  लहरें, जब  भंवर   बनतीं,
सहेजती कस्ती, साहिल के जिगर में।

जब   टूटती   साँसों  की  डोर-ए-हंस,
बंद   ये  जीवन, कफ़न  के शटर में।

भगवान  सिंह हंस


Post a Comment