There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, September 7, 2012

आदरणीय नीरव  जी 
नमन 
***************
रजनीकांत जी के 
यहाँ गोष्ठी मे आने का 
मन बहुत था ,
मगर इस वक्त कोई 
साधन नहीं है ,कि 
समय पर पहुँच सकू ....
सफलता की शुभकामनाएं ....
************************
प्रकाश प्रलय 
**************************
Post a Comment