Search This Blog

Sunday, October 7, 2012

आदरणीय  नीरव जी 
नमन 
आपका आशीष 
हम सभी पर 
क्रपा पूर्वक बना हुआ है ,,,
हंस जी ,काव्य पथ पर 
निरंतर प्रगति कर रहे है ,,,
आप जैसे जौहरी के हाथों 
लगे नग  चमकने लगे है 
बधाई .............................
*****************************************
प्रकाश प्रलय 
********************
*******************
********************
*****************************************
Post a Comment