There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, November 10, 2012


दिल -जलिकाएँ ----
---------------------*******************************
1
दुनिया वाले 
कितने भले 
दिल -जले --
---------------
2
अपने ही 
अपनों के 
काटते गले --
दिल -जले --
---------------------
3
खाकर 
पत्तल में 
छेद कर चले --
दिल -जले --
------------------
4
सम्बन्धों से 
बेहतर 
कचहरी -थाने भले --
दिल -जले --
------------------------
5
उसी को त्यागा 
जिसकी 
गोद में पले --
दिल -जले --
------------------
6
पिता की 
उँगली छोड्दी 
साँझ ढले --
दिल -जले --
----------------------
7
मन -भेदों की 
अनंत दूरी 
अब तो टले --
दिल -जले --
----------------------
दीप पर्व की 
शुभकामनाएँ ------
--------------------------
प्रकाश प्रलय 
--------------------------

Post a Comment