There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, November 10, 2012


कलैंडर टांग कर, दीवारों के पैचज़ भर लें 
लिपाई पुताई नहीं ,चलो लीपापोती ही कर लें .

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment