Search This Blog

Thursday, November 29, 2012

भारत माता का भाल घायल

भारत माता का भाल घायल लहुलुहान
क्योंकि धर्म क्षेत्र का है ध्वज ही गिरा हुआ
श्रोत्रियों को धर्म हित जीवन था जीना किन्तु
स्वार्थी मनोवृत्ति से वो कुल भी घिरा हुआ
अंगों में व्रणो की पीड़ा राष्ट्र देवी का रुदन
अधर्म प्रसार से है वक्ष भी चिरा हुआ
किन्तु माँ के त्राण के निमित्त कोई कर्म नहीं
महान तपस्वी कुल भोगी ही निरा हुआ


कृतिकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
कवि, ज्योतिषाचार्य, साहित्याचार्य, धर्मरत्न, पी-एच. डी.
लखनऊ
Post a Comment