Search This Blog

Thursday, November 8, 2012

आदरणीय 
नीरव जी ,,,,
नमन ,,,,,
मानवाधिकार पर 
आपका चिंतन मनन
बहुत मायने रखता है ,,
बड़ी गहराई से ,
ऐतिहासिक प्रष्टभूमि को 
समेट कर आपने व्याख्यायित 
किया है ,...शब्दों पर 
आपका कब्जा है ,,,बधाई,,,,,,,,
-----------------------------------
प्रकाश प्रलय 
-------------------------------------
Post a Comment