There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, November 3, 2012

बेचारी जनता ......
न जानें किस मत के भरोसे है ,
सच तो ये है किस्मत के भरोसे है .

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment