There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, November 3, 2012


हया ओ अदा से जब ,झुकीं थी तुम्हारी पलकें 
दिल में आज तक होते है ,स्पंदन उस पल के 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment