There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, December 6, 2012

डॉ मनोज कुमार सिंह के अशआर

अब काफी मशहूर हो रहे, सारे चोर उचक्के लोग ।
सज्जन तो गुमनाम हो गए, नाम कमाए छक्के लोग ।

एक तरफ सुविधाओं में पलते कुत्ते दरबारों में ,

एक तरफ सडकों पर खाते फिरते रहते धक्के लोग ।

श्रद्धा औ विश्वास देश की सदियों से पूजित नारी,
आज मसाला विज्ञापन की देख हुए भौचक्के लोग ।

संस्कार का दीपक फिर भी बचा हुआ है कवियों में ,

कविताओं से फैलाते हैं प्रेम ज्योत्स्ना पक्के लोग ।

....डॉ मनोज कुमार सिंह
Post a Comment