There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, January 19, 2013

आज की ब्लॉग पातियां

भगवानसिंह हंस का भरत चरित महाकाव्य
आज बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर श्री भगवानसिंह हंस के भरत चरित महाकाव्य की पोस्ट देखने को मिली। सुखद आश्चर्य हुआ। और राहत भी कि वे स्वस्थ्य एवं प्रसन्न हैं। रचनाएं काफी अच्छी लगीं। मैं इसके सिए श्री हंस को हार्दिक बधाई देता हूं।
--------------------------------------------------------
प्रकाश प्रलय को जन्मदिन की बधाई
हास्य-व्यंग्य के लोकप्रिय कवि प्रकाश प्रलय की 61वीं वर्षगांठ पर उन्हें हार्दिक बधाई। वे पिछले 25 वर्षों से कविता कर्म से सक्रियरूप से जुड़े हुए हैं। और मंच पर आग्रह पूर्वक सुने जाते हैं। वो और लोकप्रिय हों और खूब खिलखिलाते हुए लिखते-दिखते रहें मेरी यही मंगल कामनाएं हैं।
------------------------------------------------------------------------------------------
आखिर नींद टूटी तो
हिंदी के वरिष्ठ साहित्यकार श्री बीएल गौड़ ने सेना के दो जवानों के पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा सिर काट कर ले जाने के जघन्यकृत्य पर सरकार के लिजलिजे रवैये पर जो अपनी पोस्ट में आक्रोश जताया है वह सारे देश की जनता की मनःस्थिति को दर्शाता है। सचमुच सरकार ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है जिससे देश के स्वाभिमान का सिर ऊंचा हो सके। उसके इस उदासीन व्यवहार से सैना और जनता दोनों का ही मनोबल टूटा है। श्री बीएल गौड़ को उनकी भावप्रवण पोस्ट के लिए बधाई देता हूं।
-----------------------------------------------------------------------------------------
घनश्याम वशिष्ठ
कविवर घनश्याम वशिष्ठ के व्यंग्य में कि... हमारे डीएनए में ऐसा क्या है कि घाव जल्दी भर जाता है मैं यही कहना चाहूंगा कि चापलूसी की मरहम सारे घाव भर देती है।
-------------------------------------------------------------------------------------------------
आप सभी को मेरे प्रणाम..
     
                             -पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment