There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, January 22, 2013

छब्बीस जनवरी ----
-----------------------
बलात
आँसुओं से भरी -
छब्बीस जनवरी ----
--------------------
रसोई
गैस की
नौटंकी से
तबियत हरी,,,
छब्बीस जनवरी ----
--------------------------
उन्होंने
योग्यतानुसार
लोकतंत्र की
फसल चरी --
छब्बीस जनवरी ----
--------------------------
कब,तक,
सहेंगे पाकी
मसखरी ---
छब्बीस जनवरी ----
-------------------------
फिर
मुस्कराये
गड़करी ---
छब्बीस जनवरी ----
----------------------
घोटाला बाजों,
रिश्वतखोरों से डरी ---
छब्बीस जनवरी ----
-----------------------
प्रगति
बधाई
अधमरी
छब्बीस जनवरी ----
--------------------
प्रकाश प्रलय
--------------------------
Post a Comment