Search This Blog

Monday, January 14, 2013


जो लोग डरते हैं पड़े, चेहरे पे दाग से 
वो लोग खेलेंगे भला क्या खाक आग से 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment