There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, March 22, 2013


बीस बरस बाद जब .....
पीढितों के घाव भर गए ,
बुढियाते अपराधी सुधर गए  .
न्याय व्यवस्था तब .....
मरहम लगा रही है ,
कारागृहों में धकिया रही है .

घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment