There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, March 23, 2013


अब तो काग भी नहीं आते मुंडेर पर .
उजड गया मेरे इंतज़ार का शहर  .

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment