There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, May 27, 2013

हमने तो उन्हें महज़ ,ख़ूबसूरत चीज  कहा , 
उनका मिजाज़ ,जानें क्यूँ बदतमीज़ हुआ  .
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment