There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, June 4, 2013

जुबां का झूठ ,आँखों में झलक रहा है ,
ये प्यार नहीं , तो क्या छलक रहा है .
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment