There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, May 2, 2013



आशीर्वचन-

कविवर श्री भगवान सिंह हंस ने भरत  भरित्र महाकाव्य जो रचा है, यकीनन उसे निष्ठापूर्वक पढ़ने वाले को सौ-सौ गंगा स्नान का पुण्य मिलता है। एक बार कोई इस काव्य-गंगा में  डुबकी लगाकर देखे तो।
आज के दौर की यह भावगीता है।

पंडित सुरेश नीरव 


Post a Comment