There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, May 4, 2013


मौत से अलग  कुछ नहीं मिलना ,लैला मजनू बनकर ,
बेहतर है , तू अपने घर सुखी ..मैं अपने घर .
घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment