There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, May 5, 2013

ऐसे भूलने लगते हैं  लोग .......
अश्क बहाकर बैठे हैं ,हम घाव भुलाकर बैठे हैं ,
ज़रा सकूं ले लेने दो , अब ही घर आकर बैठे हैं .
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment