There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, November 12, 2013

तेरी आंखे हैं सत्यम, शिवम, सुन्दरम

अखिल भारतीय सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति

कवि सुखदेव सरल एक सरल मन कवि है और बहुत अच्छे गीत और मुक्तक लिखते हैं। आप भी उनकी लेखनी का आनंद लें..
तेरी आंखे
स्वास्तिक, शाश्वत, शांतिदायी, शुभम ,
सर्वसुखदायिनी, श्रेष्ठ,  शुचि, श्यामलम।
सृष्टि  सारी स्वयम  में  समहित किए,
तेरी आंखे हैं  सत्यम, शिवम, सुन्दरम। 


कवि सुखदेव  सरल
पाली, हरदोई 

मो 9208591230
-----------------------------------------------------
सुखदेव सरल का सम्मान करते हुए डॉक्टर नागेश पांडे।
Post a Comment