There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, November 21, 2013

ठीक कहा आपने

डॉक्टर मधूलिका सिंहजी मैं आपकी बात से शतप्रतिशत सहमत हूं। नीरवजी ने हमेशा की ही तरह फिर एक गंभीर साहित्यिक कार्य किया है और इस काम से उनके चाहनेवालों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हुई है। मैं भी सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति का एक सदस्य हूं मुझे अच्छा लगा कि नीरवजी के इस प्रयोग से संस्था का नाम बुद्धजीवियों के बीच एक सम्मानजनक ढ़ंग से उन्होंने पहुंचाया है। हम उनके इस प्रयास की तहेदिल से तारीफ करते हैं।
विष्णु शर्मा
Post a Comment