There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, December 10, 2013

कान पका  दिए थे उन्होंने   गाल बजा बजा ,
बजा गाल पर उन्हीं के   , अब आया मज़ा  .
घनश्याम वशिष्ठ



Post a Comment