There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, December 8, 2013

जड़ें कितनी  भी  गहरी रही हों मगर ,
ज़मीं ने पकड़ छोड़ी गिर गया शज़र 

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment